ख़बरें

अयोध्या में भूमि पूजन के लिए राम भक्त फैज खान कर रहे हैं 800 किमी की पदयात्रा

तर्कसंगत

Image Credits: Hindustan Times

July 27, 2020

SHARES

अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर का भूमि पूजन होगा। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद मौजूद रहेंगे। इस अवसर पर भगवान राम का भक्त कहने वाले मोहम्द फैज खान ने 800 किमी की लंबी पदयात्रा शुरू कर दी है। ये पदयात्रा छत्तीसगढ़ के चंदखुरी गांव के माता कौशल्या मंदिर की मिट्टी लेकर पदयात्रा शुरू कर दी है। फैज खान ने कहा कि मैं अपने नाम और धर्म से मुस्लिम हूं लेकिन मैं भगवान राम का भक्त हूं। अगर हमें अपने पूर्वजों के बारे में पता चलता है, तो वे हिंदू थे। उनका नाम रामलाल या श्यामलाल हो सकता है। हम सभी हिंदू मूल के हैं चाहे वे चर्च जाएं या मस्जिद। फैज खान भगवान राम को ही मुख्य पूर्वज मानते हैं। अपने रास्ते में आने वाली सभी आलोचनाओं से हैरा फैज ने कहा कि पाकिस्तान में कुछ लोगों ने हिंदू और मुस्लिम लोगोंके साथ फर्जी आईडी बनाई है। और एक दूसरे को गाली दे रहे हैं ताकि यह दिखाया जा सके कि सभी समुदाय के लोग भारत में लड़ रहे हैं।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा, “हमारे आदी पूर्वज भगवान राम हैं। अल्लामा इकबाल (पाकिस्तान के राष्ट्रीय कवि) ने इसे समझाने की कोशिश की थी और कहा था कि जो भगवान राम को भारत का भगवान मानता है, वही सचमुच में सही दृष्टि वाला है। इस श्रद्धा के साथ राम के ननिहाल और कौशल्या के जन्मस्थान चांदकुरी की मिट्टी लेकर जा रहा हूं। यह मिट्टी मंदिर के भूमि पूजन में डालना चाहता हूं।”

इस बीच अयोध्या में भूमि पूजन की जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं। शनिवार को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या का दौरा किया था। जहां उन्होंने सभी प्रकार की तैयारियों का जायजा लिया। सीएम योगी ने अफसरों से तैयारियों पर चर्चा की साथ ही साधु-संतों के साथ बैठकर कार्यक्रम की पूरी रूपरेखा तैयार की। इस भूमि पूजन में पीएम मोदी शामिल होंगे। इसके लिए अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था बढा़ दी गई है। तीन दिन तक भूमि पूजन कार्यक्रम चलेगा। इसमें 4 अगस्त को रामाचार्य पूजा और 5 अगस्त को करीब 12:15 बजे भूमि पूजन होगा।

उन्होंने दावा किया कि वह 15,000 किलोमीटर की यात्रा कर विभिन्न मंदिरों में जा चुके हैं और वहां रुके भी हैं। खान ने कहा, “यह पहली बार नहीं है जब मैं मंदिरों में जा रहा हूं। मैं 15,000 किलोमीटर की यात्रा कर चुका हूं और मंदिरों में रुका भी हूं।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...