ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट ने बुज़ुर्गों और वृद्धाश्रमों के लिए नए निर्देश दिए हैं

तर्कसंगत

Image Credits: Mercom India

August 4, 2020

SHARES

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि बुजुर्ग लोगों को समय पर पेंशन दी जानी चाहिए और कोरोना महामारी के दौरान देशभर में वृद्धाश्रमों में रहने वाले लोगों को पीपीई, सैनिटाइजर और मास्क प्रदान किये जाएं।

शीर्ष अदालत ने कहा कि बुजुर्ग लोग परेशानियों का सामना कर रहे हैं और प्रशासन को इस बात के लिए कदम उठाने चाहिए कि जहां उन्हें आवश्यकता हो, सहायता पहुंचाई जाए।

कोर्ट ने कहा कि अधिकारियों को उन्हें वक़्त पर पेंशन का भुगतान सुनिश्चित करना चाहिए और वृद्धाश्रमों में रहने वालों को पीपीई किट दी जानी चाहिए।

जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ अधिवक्ता अश्विनी कुमार की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि बुजु्र्गो को समय से पेंशन का भुगतान किया जाना चाहिए। इससे पहले, कुमार ने कहा कि महामारी के दौरान बजुर्गों को समय पर पेंशन मिलना आवश्यक है।

लाइव लॉ के मुताबिक, सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से कहा है कि वे वृद्धाश्रमों में देखभाल करने वाले लोगों को जरूरी सुरक्षा उपकरण मुहैया कराएं।

जस्टिस भूषण ने कहा कि देखभाल करने वाले सभी लोगों को पीपीई पहनना चाहिए और कोविड-19 को लेकर जारी किए गए सभी सुरक्षा उपायों का पालन करना चाहिए।

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि करोड़ों बुजुर्ग अकेले रहे हैं और इस बात के लिए उचित निर्देश जारी किये जाने चाहिए कि पात्र लोगों को वक्त पर पेंशन मिले।

केंद्र की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता वी मोहन ने पीठ से कहा कि राज्य सरकारें इस दिशा में कोशिश कर रही हैं।

मोहन ने याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिए जब एक हफ्ते का समय मांगा तो कुमार ने विरोध करते हुए कहा कि इस मामले में तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है।

बेंच ने एक अन्य याचिका पर भी सुनवाई की जिसमें कोरोना वायरस संक्रमित बुजुर्गों का उपचार बिना भेदभाव के करने का निर्देश देने की मांग की गयी है। पीठ ने राज्यों को याचिका पर जवाब दाखिल करने का भी निर्देश दिया।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...