ख़बरें

वीडियो देखिये, बेंगलुरु में भड़की हिंसा के दौरान पुलिस फायरिंग में तीन की मौत, 60 पुलिसकर्मी जख्मी

तर्कसंगत

August 12, 2020

SHARES

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु के कुछ इलाकों में देर रात संप्रदायिक हिंसा भड़क गई। इस हिंसा के पीछे एक युवक द्वारा पैगंबर को लेकर अपमानजनक पोस्ट था जिसकी प्रतिक्रिया में लोगों ने हिंसा की। बेंगलुरु में कांग्रेस के विधायक श्रीनिवास मूर्ति के आवास पर करीब 100 की संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्य एक जगह जमा हुए और मूर्ति के घर पर पत्थर फेंके।

इतना ही नहीं डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस स्टेशन पर भी पथराव किया। भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने फायरिंग की जिसमें 2 लोगों की मौत हो गई वहीं पुलिस और लोगों के बीच हुई झड़प में करीब 60 पुलिसकर्मी भी घायल हो गए हैं।

एनडीटीवी के अनुसार पूरे बेंगलुरु में धारा 144 लागू है. कमिश्नर ने कहा कि फिलहाल हालात काबू में हैं। पुलिस ने इस मामले में कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के आरोपी भतीजे नवीन को गिरफ्तार कर लिया है, वहीं इसके अलावा 110 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

 

 

जानकारी के मुताबिक उत्तरी बेंगलुरु के पुलकेशी नगर विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक मूर्ति के भतीजे ने पैगंबर को लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया था, जिसके बाद अल्पसंख्यक समुदाय का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने विधायक के घर पर तोड़फोड़ की।

पूर्वी बेंगलुरु के कवाल बिरसंद्रा इलाके में पुलकेशिनगर के विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर पर बड़ी संख्या में लोगों ने पथराव किया। उन्होंने पी. नवीन के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग करते हुए वहां खड़े वाहनों को भी आग लगा दी, जिन्होंने कथित रूप से पैगंबर मोहम्मद का अपमान करने वाला अपमानजनक पोस्ट लिखा था।

घटना पर कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्‍मई ने कहा कि मामले की जांच की जानी चाहिए। अतिरिक्त बल तैनात किया गया है। उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि मैंने अधिकारियों से बात की है। किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है। पुलिस शांति बहाल करने की कोशिश कर रही है।

 

 

दरअसल लोगों ने पैगंबर के अपमान को लेकर किए गए पोस्ट के विरोध प्रदर्शन के दौरान दोनों पुलिस स्टेशनों पर बोतल और पत्थर फेंके। जिसमें 60 पुलिसकर्मी घायल हो गए। वहीं सूत्रों का कहना है कि मूर्ति के भतीजे ने दावा किया है कि उसका फेसबुक अकाउंट हैक हो गया था। उसने यह पोस्ट नहीं किया जिसमें कथित तौर पर पैगंबर के अपमान की बात कही गई है।

उपद्रवियों ने पुलिस कर्मियों पर भी पथराव किया जिन्हें विधायक के आवास की सुरक्षा का जिम्मा सौंपा गया था। प्रदर्शनकारियों ने कथित तौर पर दमकल गाड़ियों को भी नहीं घुसने दिया जिससे आग बुझानेमें दिक्कत आयी।

रिपोर्टों के अनुसार, केजी हल्ली पुलिस स्टेशन में लोगों के एक समूह द्वारा नवीन के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के बाद अशांति तेज हो गई थी, हालांकि, स्थानीय पुलिस द्वारा उन्हें इस मामले को सुलझाने के लिए कहा गया था। संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) बेंगलुरु संदीप पाटिल ने कहा कि हिंसा के संबंध में कम से कम 110 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और अधिक गिरफ्तारियां की जा रही हैं। घटना के तुरंत बाद, कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति ने भी शांति की अपील की।

पुलिस सूत्रों ने कहा कि खुद को विधायक का रिश्तेदार बताने वाले आरोपी ने कथित रूप से सोशल मीडिया पर एक पोस्ट साझा की, जिससे एक समुदाय के लोग भड़क उठे। विधायक ने समुदाय के लोगों से हिंसा नहीं करने की अपील की। उन्होंने वीडियो संदेश में कहा, ”मैं लोगों से अपील करता हूं कि कुछ उपद्रवियों की गलतियों के चलते हमें हिंसा में शामिल नहीं होना चाहिये। लड़ने-झगड़ने की कोई जरूरत नहीं है। हम सभी भाई हैं। हम कानून के अनुसार दोषियों को सजा दिलाएंगे। हम भी आपके साथ हैं। मैं अपने दोस्तों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं।”

 

 

पुलिस कमिश्ननर कमल पंत ने एक ट्वीट में लिखा कि कि डीजे हल्ली में हुई घटना में आरोपी नवीन 110 लोगों को पुलिस पर हमला करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने में पुलिस का सहयोग करने को कहा है। उन्होंने बताया कि भीड़ ने हिंसा में 25 गाड़ियों को आग लगा दी, वहीं पुलिस स्टेशन में रखी 200 बाइकों को भी आग के हवाले कर दिया। हमले में थाना भी क्षतिग्रस्त हुआ है।

 

 

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि हिंसा को रोकने की कोशिश कर रहीं पुलिस टीमों के वाहनों को भी भीड़ ने क्षतिग्रस्त कर दिया।

 

 

 

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...