ख़बरें

टिक-टॉक में निवेश के लिए बाइटडांस से बातचीत कर रही है रिलायंस

तर्कसंगत

August 17, 2020

SHARES

चाइनीज कंपनी बाइटडांस भारत में टिक-टॉक ऐप में निवेश के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) से शुरुआती बातचीत कर रही है। दरअसल, भारत सरकार ने सीमा विवाद के बीच टिक-टॉक समेत कई चाइनीज ऐप्स को बैन कर दिया था।

भारत टिक-टॉक के लिए 20 करोड़ से ज्यादा यूजर्स के साथ सबसे बड़ा बाजार था। अब कंपनी इस बाजार को बचाने के लिए रिलायंस से बात कर रही है। गौरतलब है कि बाइटडांस टिक-टॉक की मालिक कंपनी है।

टेकक्रंच ने मामले की जानकारी रखने वाले दो लोगों के हवाले से यह खबर दी है।

रिपोर्ट के अनुसार, दोनों कंपनियों ने पिछले महीने बातचीत की शुरुआत की थी। 20 करोड़ से ज्यादा यूजर्स वाली टिक-टॉक का भारत में लगभग 22,500 करोड़ रुपये का कारोबार है।

बाइटडांस या रिलायंस की तरफ से अभी तक इस बातचीत को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। आमतौर पर कंपनियां अंतिम निर्णय पर पहुंचने से पहले मामले पर टिप्पणी नहीं करती हैं।

2016 में जियो प्लेटफॉर्म की शुरुआत के चार साल से भी कम समय में रिलायंस ने 40 करोड़ से ज्यादा नए यूजर्स अपने साथ जोड़ लिए हैं।

अगर बाइटडांस के साथ उसकी बातचीत सिरे चढती है तो वह लोगों में और गहरी पैठ बनाने में कामयाब होगी।

कहा जा रहा है कि रिलायंस इस निवेश को लेकर अभी नफे-नुकसान पर विचार कर रही है। कंपनी ने इस संबंध में बाहरी विशेषज्ञों की भी सलाह ली है।

दोनों कंपनियों के बीच बातचीत की खबर ऐसे समय में सामने आई है जब बाइटडांस के कई बड़े अधिकारी कंपनी छोड़कर जा रहे हैं।

वहीं बाइटडांस अपने कर्मचारियों को भरोसा दे रही है कि वो भारत सरकार के साथ बातचीत कर रही है और उसका छंटनी करने का कोई इरादा नहीं है।

जानकारी के लिए बता दें कि बाइटडांस के भारत में लगभग 2,000 कर्मचारी हैं। चाइनीज ऐप्स बैन होने के बाद से इनके भविष्य पर तलवार लटक रही है। बाइटडांस अमेरिका समेत चुनिंदा देशों में अपना कारोबार बेचने के लिए दिग्गज कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के साथ बातचीत कर रही है।

पिछले कुछ दिनों से इस संबंध में कयास लगाए जा रहे थे, जिसके बाद माइक्रोसॉफ्ट ने इसकी पुष्टि की थी। अब खबरें हैं कि दोनों के बीच अमेरिका के साथ-साथ भारत और यूरोप आदि के कारोबार को लेकर भी बातचीत हो रही है।

गौरतलब है कि अमेरिका ने बाइटडांस के साथ लेन-देन बंद कर दिया है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...