ख़बरें

मेरठ में छप रही थी NCERT की नकली किताबें, पुलिस ने बरामद किया 35 करोड़ के लागत की किताबें

तर्कसंगत

Image Credits: News18

August 23, 2020

SHARES

उत्तर प्रदेश STF ने NCERT की नकली किताबें छापने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर दिया है।

STF ने शुक्रवार शाम को मेरठ पुलिस के सहयोग से गगोल रोड स्थित एक गोदाम पर छोपेमारी करते हुए 35 करोड़ रुपये लागत की NCERT की नकली किताबों को जब्त कर छह प्रिंटिंग मशीनों को सीज कर दिया।

इस गिरोह का मास्टरमाइंड भाजपा नेता संजीव गुप्ता का बेटा सचिन गुप्ता है और उसके लिखाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

हिंदुस्तान टाइम्स के  मुताबिक STF के DSP ब्रजेश कुमार ने बताया कि यह किताबें जब आर्मी स्कूल तक पहुंची तो गुपचुप तरीके से इसकी जांच की गई थी। जांच में सामने आया कि किताबें मेरठ के परतापुर इलाके में छापी जा रही हैं। सिविल पुलिस का मामला होने पर मिलिट्री इंटेलिजेंस (MI) ने STF को इसकी जानकारी दे दी।

इसके बाद शुक्रवार को STF ने मेरठ पुलिस के सहयोग से गोदाम पर छापा मारकर करीब 1.5 लाख नकली किताबें जब्त कर ली।

न्यूज 18 के अनुसार DSP ने बताया कि अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।उन्होंने बताया कि गोदाम और मोहकमपुर की प्रिंटिंग प्रेस का मालिक सचिन गुप्ता है और वह भाजपा के महानगर उपाध्यक्ष संजीव गुप्ता का बेटा है।

छापेमारी के बाद उससे फोन पर बात हुई थी और उसने दस्तावेज लाने को कहा था। उसके बाद वह फरार हो गया और अपना फोन बंद कर लिया। उसकी गिरफ्तारी के लिए दबिश जारी है।

UP STF Busted Gang of fake books of NCERT in Meerut 35 crore worth ...

पूछताछ में सामने आया है कि किताबें प्रकाशित कर उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, दिल्ली समेत कई राज्यों में सप्लाई की जाती थी। अधिकांश किताबें 9वीं से 12वीं तक की फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथ्स की हैं। इस फैक्ट्री में NCERT व अन्य की करीब 364 तरह की नकली किताबें छापी जाती थी।

उन्होंने बताया कि सचिन गुप्ता पूर्व में उत्तर प्रदेश बोर्ड की भी नकली किताबें छाप चुका है। उसकी भी जांच जारी है।

इस खबर के आने के बाद मेरठ भाजपा ने उपाध्यक्ष पद पर बैठे  संजीव गुप्ता को तत्काल पार्टी की सभी गतिविधि से निलंबित कर दिया।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...