ख़बरें

कश्मीर के पावर डेवलेपमेंट डिपार्टमेंट ने बिजली के बिल से सीआरपीएफ को झटका दे दिया है

तर्कसंगत

Image Credits: India Today/India.com

August 24, 2020

SHARES

कश्मीर के बडगाम जिले में चरार-ए-शरीफ स्थित सीआरपीएफ की 181 बटालियन के कैंप के नाम डेढ़ करोड़ से अधिक का बिजली बिल जारी किया गया है। हालांकि, इस बारे में विभाग की ओर से कोई अधिकृत जानकारी नहीं दी गई। कहा जा रहा है त्रुटिवश यह बिल जारी हो गया है।

यह बिल जम्मू-कश्मीर प्रशासन के पावर डेवलेपमेंट डिपार्टमेंट (PDD) की तरफ से जारी किया गया है। इस पर उपभोक्ता के नाम के तौर पर 181 बटालियन का नाम दर्ज है।

इस बिल का भुगतान जम्मू-कश्मीर पुलिस को करना है, लेकिन CRPF के लिए भी चिंता का विषय बन गया है। इंडिया टूडे के मुताबिक, बिल पर बडगाम जिले में तैनात 181 बटालियन के लिए 50 किलोवॉट के लोड की मंजूरी दिखाई गई है और इसके लिए 1,500 रुपये का हर महीने का फिक्स चार्ज है।

यह बिल निकला है 10 अगस्त को जिसे 27 अगस्त तक भरना होगा।

हालाँकि इस मामले पर CRPF के ADG से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “ऐसा लग रहा है कि यह गलती से हो गया है। हमने पावर डिपार्टमेंट से संपर्क करने की कोशिश की थी, लेकिन अभी तक उनसे बात नहीं हो पाई है।”

उन्होंने उम्मीद जताई कि 27 अगस्त से पहले इस मामले को सुलझा लिया जाएगा। यह कुल बिल एक करोड़ 51 लाख 59 हजार 897 रुपये का है।

कश्मीर से वापस बुलाये गए अर्ध्दसैनिक बल

हाल ही में केंद्र सरकार ने अर्धसैनिकों बलों की 100 कंपनियों (10,000 जवान) को जम्मू-कश्मीर से तत्काल वापस बुलाने का आदेश जारी किया था। इन्हें बीते साल अनुच्छेद 370 पर ऐतिहासिक फैसले से पहले जम्मू-कश्मीर में तैनात किया गया था।

बुधवार शाम जारी आदेश के अनुसार, जम्मू-कश्मीर भेजे जाने से पहले ये जवान जहां तैनात थे, उन्हें वापस वहीं भेजा जा रहा है। इससे पहले मई में भी केंद्र सरकार ने 1,000 अर्धसैनिक बलों को जम्मू-कश्मीर से वापस बुलाया था। गृह मंत्रालय के आदेश के अनुसार, जिन 100 कंपनियों को वापसी का आदेश दिया गया है, उनमें CRPF की सबसे अधिक 40 कंपनियां शामिल हैं। इसके अलावा केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF), सीमा सुरक्षा बल (BSF) और सशस्त्र सीमा बल (SSB) की 20-20 कंपनियों को वापस बुलाया गया है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...