ख़बरें

लव जिहाद को रोकने के लिए योगी सरकार ने तैयार किया एक्शन प्लान

तर्कसंगत

Image Credits: India Today

August 30, 2020

SHARES

यूपी में अब लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाकर धर्म बदलने पर कड़ी कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गृह एवं पुलिस विभाग के अधिकारियों को प्रदेश में लव जेहाद की घटनाएं रोकने को कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं।

लव जिहाद शब्द का इस्तेमाल हिंदू संगठन अंतर-धार्मिक शादी के लिए करते हैं। इसमें उनका आरोप होता है कि मुस्लिम पुरुष से शादी कराने के लिए महिला का धर्म-परिवर्तन किया जाता है।

 

लव जिहाद पर मिले हैं सबूत

इंडियन एक्सप्रेस ने अधिकारियों के हवाले से लिखा है कि कानपुर, मेरठ और लखीमपुर खीरी में ऐसे मामले सामने आने के बाद यह निर्देश दिया गया है। पुलिस का दावा है कि इन तीनों जगहों के मामलों में इस बात के सबूत है कि महिला पर जबरदस्ती धर्म परिवर्तन और शादी करने का दबाव डाला गया था। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इसे रोकने के लिए नई योजना बनाने या नए कानून की जरूरत पर विचार करने को कहा है।

योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने कहा, “प्रदेश के कई हिस्सों से लव जिहाद के मामले सामने आए हैं। इसलिए मुख्यमंत्री ने गृह विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को इस तरह के मामलों को रोकने के लिए योजना बनाने को कहा है।”

कानून को ठीक से लागू करने की जरूरत: अवस्थी

अपर मुख्य सचिव, गृह, अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि यह एक सामाजिक मुद्दा है। इसे रोकने के लिए सभी मामलों को गंभीरता से लेना होगा। आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की आवश्यकता है और हमें कठोर होना होगा। अवस्थी ने कहा कि लव जिहाद से जुड़े मामलों की फास्ट-ट्रैक कोर्ट में सुनवाई संभव है, क्योंकि इनमें से बहुत से मामले अदालतों में लंबित हैं। कहा कि इस मामले में आरोपी को जमानत नहीं दी जानी चाहिए। यह पूछे जाने पर कि क्या नया कानून लाया जाएगा, अवस्थी ने कहा कि चूंकि मौजूदा कानून पर्याप्त होगा, लेकिन इसे ठीक से लागू करने की जरूरत है।

 

एसआईटी गठित

दरअसल, हाल ही में कानपुर की जूही कॉलोनी में अंतर-धार्मिक शादी के कई मामले सामने आए थे। यहां की पांच महिलाओं के परिवार ने पुलिस से मिलकर मदद मांगी थी। इन परिवारों का आरोप है कि शादी से पहले उनकी लड़कियों का ‘ब्रेन वॉश’ कर धर्म परिवर्तन किया गया था। पुलिस ने इन आरोपों की जांच के लिए विशेष जांच टीम (SIT) का गठन किया था। SIT अब मामले की जांच में जुटी हुई है।

सांप्रदायिक माहौल को बिगड़ने से रोकने और महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सीएम ने ऐसे मामलों में सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। ताकि धर्म की आड़ में महिलाओं पर अत्याचार न हों। पुलिस और गृह विभाग के अफसरों से कहा गया है कि जहां भी लड़कियों को धोखे में रखकर शादी करने और उसके बाद उन्हें प्रताड़ित करने के मामले जानकारी में आए उन पर पुलिस त्वरित कार्रवाई करे।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...