सचेत

भाजपा ने फेसबुक को 44 पेजों की लिस्ट देकर बंद करवाया, पार्टी समर्थित पेजों को मोनेटाइज करने को कहा

तर्कसंगत

September 1, 2020

SHARES

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक और व्हाट्सअप के साथ बीजेपी के सांठगांठ के आरोप लगातार लग रहे हैं. वहीं मीडिया में आयी एक खबर के मुताबिक बीजेपी के कहने पर फेसबुक ने 14 फेसबुक पेजों को बंद किया, इतना ही नहीं भाजपा के कहने पर 17 फेसबुक पेजों को फिर से शुरू भी किया गया.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, भारतीय जनता पार्टी ने आम चुनाव 2019 से पहले फेसबुक को 44 फेसबुक पेजेज की एक लिस्ट दी थी. और इन्हें बंद करने की मांग की थी. खबर है कि इस सूची में वैसे फेसबुक पेजेज शामिल थे, जो बीजेपी का विरोध कर रहे थे. भाजपा का कहना था कि ये फेसबुक पेज तथ्यहीन पोस्ट डाल रहे थे और गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे थे. खबर है कि भाजपा के कहने पर फेसबुक ने इनमें से 14 पेजेज को बंद कर दिया. इनमें भीम आर्मी का ऑफिसियल अकाउंट, वी हेट बीजेपी पेज, कांग्रेस समर्थित अनऑफिसियल पेज, जर्नलिस्ट रवीश कुमार और विनोद दुआ के समर्थन वाले पेज और द ट्रुथ ऑफ गुजरात जैसे फेसबुक पेज शामिल हैं.

जानकारी मिली है कि भाजपा के कहने पर फेसबुक ने ना सिर्फ कुछ पेजों को बंद किया, बल्कि कई को फिर से चालू भी किया. ऐसे 17 फेसबुव पेजेज को फिर से शुरू करने की बात सामने आ रही है. साथ ही चौपाल और ओपइंडिया नाम की दो न्यूज वेबसाइट्स को मोनेटाइज करने को भी कहा गया. उल्लेखनीय है कि बीजेपी की अपील पर फेसबुक ने उन 17 पेजेज को फिर से शुरू किया और दलील दी कि ये 17 पेज गलती से हटा दिये गये थे.

“द चौपाल” के संस्थापक विकास पांडे ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि फेसबुक द्वारा मार्च 2019 में मोनेटाइज को रद्द करने के बाद उनकी साइट को मोनेटाइज की अनुमति नहीं दी गई है. ओपइंडिया ने इन प्रश्नों का कोई जवाब नहीं दिया.

जिन 17 पेजों को दोबारा शुरू किया गया है उनके बारे में बताते हुए भाजपा के आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि ये ‘गलती’ से डिलीट हुए थे.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, फेसबुक ने भाजपा के निवेदन पर जिन 17 पेजों को फिर से शुरू किया है, उन पर पोस्टकार्ड न्यूज का कंटेट शेयर होता है। इनमें से किसी भी पेज को सीधे तौर पर किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़ा नहीं बताया गया है.

17 में से एक पेज पोस्टकार्ड न्यूज के संस्थापक महेश वी हेगड़े के नाम पर है. हेगड़े को मार्च 2018 में ‘फेक न्यूज’ फैलाकर धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद बेंगलुरू पुलिस ने हेगड़े की भाजपा नेताओं के साथ संबंधों की पड़ताल की.

इसमें पता चला कि अदालत में भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या हेगड़े का प्रतिनिधित्व कर रहे थे. फेसबुक ने जुलाई, 2018 में पोस्टकार्ड न्यूज का ऑफिशियल पेज हटाया था. पेज दोबारा शुरू करने के निवेदन को लेकर अमित मालवीय, फेसबुक की भारत में शीर्ष सार्वजनिक नीति अधिकारी अंखी दास और शिवनाथ ठुकराल के बीच ईमेल पर बातचीत हुई थी.

भारत में इन दिनों फेसबक भाजपा के प्रति झुकाव के चलते विवादों में है.

दरअसल, वॉल स्ट्रीन जर्नल की रिपोर्ट में सामने आया था कि अंखी दास ने भाजपा नेताओं की नफरत भरी पोस्ट पर कार्रवाई की प्रक्रिया में दखल दिया था.

इसके बाद से कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल फेसबुक पर भाजपा की मदद करने का आरोप लगा रहे हैं. इसे लेकर कांग्रेस ने फेसबुक प्रमुख मार्क जकरबर्ग को पत्र भी लिखा है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...