सचेत

कर्नाटक: स्कूल खुलने पर ‘कोविड फीस’ लेने की तैयारी में निजी स्कूल

तर्कसंगत

Image Credits: India Tv

September 11, 2020

SHARES

केंद्र सरकार ने अनलॉक-4 के तहत 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के छात्रों को स्कूलों में आने का विकल्प दिया है। इसे देखते हुए कर्नाटक के निजी स्कूल अब बच्चों से अतिरिक्त ‘कोविड फीस’ लेने का मन बना रहे हैं।

अगर द प्रिंट की खबर की माने तो सरकार द्वारा स्कूल खुलने के प्रावधान के बाद, कर्नाटक के निजी स्कूल 21 सितंबर से बड़ी कक्षाओं के स्कूल खुलने के बाद सैनिटाइजेशन और साफ-सफाई पर आने वाले खर्च की पूर्ति के लिए यह फीस ली जाएगी।

 

स्कूल का खर्च बढ़ेगा

निजी स्कूल का मत है कि उन्हें सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए स्कूल  में साफ़ सफाई, सैनिटाइजेशन का अतिरिक्त ध्यान रखना होगा। जिसका की अतिरिक्त खर्च का भार स्कूल पर पड़ेगा।राज्य के निजी स्कूल प्रबंधकों का कहना है कि कुछ घंटे के अंतराल पर परिसर के सैनिटाइजेशन, थोड़ी-थोड़ी देर बाद रेलिंग, डेस्क, कुर्सियों और दूसरी चीजों को सैनिटाइज और साफ करने के कारण खर्च बढ़ेगा।

राज्य में गैर-सहायता प्राप्त इंग्लिश मीडियम प्राथमिक और उच्च स्कूलों के प्रबंधकों की निजी संस्थान एसोसिएटिड मैनेजमेंट ऑफ इंग्लिश मीडियम स्कूल के जनरल सेक्रेटरी डी शशि कुमार ने कहा, “हम छात्रों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए 70 प्रतिशत एल्कोहल वाले डिसइंफेक्टेंट इस्तेमाल करने की योजना बना रहे हैं। इससे स्कूल का साफ-सफाई से जुड़ा खर्च 5 प्रतिशत तक बढ़ जाएगा, लेकिन इससे आगे चलकर छात्रों को ही फायदा होना है।”

 

अभिभावकों की बढ़ेगी मुश्किल

एक तरफ अभिभावक लॉक डाउन में फीस कम करने की गुहार लगा रहे. लॉकडाउन के दौरान बहुत लोगों की नौकरियां गई हैं और कई लोग ऐसे हैं, जिनके वेतन में कटौती हुई है। इस वजह से वो फीस नहीं चुका पाए हैं। इन तमाम मुश्किलों को देखते हुए निजी स्कूल इस प्रस्तावित ‘कोविड फीस’ को लागू करने से पहले परिजनों की सहमति लेने का प्रयास कर रहे हैं।

इस मुद्दे पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार की कोई टिप्पणी नहीं मिली है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...