ख़बरें

दिल्ली सरकार ने अब से दिल्ली की स्कूलों में सप्ताह में एक दिन ‘ड्राई डे’ मनाने क्यों कहा है ?

तर्कसंगत

Image Credits: Navodaya Times

September 17, 2020

SHARES

दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी के सभी स्कूलों को निर्देश दिया है कि वे मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए हफ्ते में एक दिन ‘ड्राई डे ‘ मनाएं। इस दिन कूलर, फूलदान, पक्षियों के पानी के बर्तन, पानी के कंटेनर, ठहरे हुए पानी की जांच करें और उसे साफ करें।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार यह कदम डेंगू, मलेरिया और चिकुनगुनिया जैसी वेक्टर जनित बीमारियों को लेकर स्कूली छात्रों को जागरुक करने के अभियान का हिस्सा है।

शिक्षा निदेशालय ने स्कूल के प्रधानाचार्यों को लिखे पत्र में कहा है, ‘ बरसात का मौसम डेंगू, चिकुनगुनिया और मलेरिया जैसी वेक्टर जनित बीमारियों के लिए बहुत अनुकूल होता है जो हर साल इस समय फैलती हैं। यह मच्छर के काटने से होने वाली बीमारियां हैं। अगर निवारक उपाय नहीं किए जाएं तो कभी कभी यह महामारी का रूप ले लेती हैं।’

निदेशालय ने कहा, ‘किसी भी बीमारी को नियंत्रण करने का बेहतरीन तरीका रोकथाम है। प्रकोप को नियंत्रित करने तथा रोकने के लिए यह अहम है कि मच्छरों के प्रजनन को रोका जाए और छात्रों को इस बारे में जागरूक किया जाए।’

निदेशालय ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण सभी स्कूल छात्रों के लिए बंद हैं। सभी स्कूलों के प्रधानाचार्यों को निर्देश दिया जाता है कि वे सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर छात्रों को घर में ही इसका अनुसरण करने के लिए निर्देशित करें।

निदेशालय ने कहा, ‘ सभी स्कूलों में हफ्ते में एक दिन (आखिरी कार्य दिवस हो तो बेहतर है), शुष्क दिवस मनाया जाए । इस दिन कूलर, फूलदान, पक्षियों के पानी के बर्तन, कबाड़, पानी के कंटेनर, ठहरे हुए पानी और पानी जमा होने की अन्य संभावित जगहों की जांच करें और सुनिश्चित करें कि मच्छरों का प्रजनन नहीं हो। ‘

सभी स्कूलों को नोडल अधिकारी को नियुक्त करने का निर्देश भी दिया गया है जो वेक्टर जनित बीमारियों की रोकथाम और नियंत्रण के लिए जिम्मेदार हो।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...