ख़बरें

संसद में सरकार ने तबलीगी जमात से जुड़ा एक अहम ब्यान दे दिया है

तर्कसंगत

Image Credits: NDTV

September 21, 2020

SHARES

सरकार ने संसद में कहा है कि मार्च में दिल्ली में हुए तबलीगी जमात के विवादित आयोजन की वजह से कई लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे। संसद में एक सवाल का जबाव देते हुए केंद्र सरकार ने ये बात कही है।

सवाल में इस आयोजन की वजह से दिल्ली और बाकी राज्यों में बड़े पैमाने पर संक्रमण फैलने के बारे में पूछा गया था। इसके जबाव में सरकार ने कोई आंकड़ा तो पेश नहीं किया, लेकिन कई लोगों में संक्रमण फैलने की बात जरूर कही।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी राज्यसभा में एक लिखित जवाब में कहा, “जैसा कि दिल्ली पुलिस ने बताया कि COVID-19 महामारी के मद्देनजर विभिन्न प्राधिकरणों द्वारा आदेश/निर्देश जारी करने के बावजूद बिना मास्क, सैनिटाइजर और सामाजिक दूरी का पालन किए भीड़ लंबी अवधि के लिए बंद परिसर में इकट्ठा हुई। इसके कारण कई व्यक्तियों में कोरोना का संक्रमण फैल गया।” 

दिल्ली में तब्लीग़ जमात

कई लोगों और नेताओं ने देश में कोरोना फैलने के लिए इसी आयोजन को जिम्मेदार ठहराया था।

शिवसेना के राज्यसभा सांसद अनिल देसाई ने इन्हीं दावों को मद्देनजर रखते हुए सरकार से पूछा था कि क्या इसी आयोजन की वजह से दिल्ली और बाकी राज्यों में कोरोना फैला था और क्या ये संक्रमण फैलने का एक बड़ा कारण था। उन्होंने आयोजन में शामिल होने वाले और गिरफ्तार किए गए लोगों की संख्या भी पूछी थी।

रेड्डी ने ये भी बताया कि 29 मार्च को तबलीगी जमात की इस मस्जिद से 2,361 को बाहर निकाला गया था और दिल्ली पुलिस अभी तक 233 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। हालांकि जमात प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद को लेकर जांच जारी है।

सरकार द्वारा लगायी गयी रोक

केंद्र सरकार ने तबलीगी जमात के विदेशी सदस्यों पर भी कार्रवाई की है और दिल्ली पुलिस 956 विदेश सदस्यों के खिलाफ 59 चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। इन पर पर्यटक वीजा के जरिए भारत में प्रवेश करने और फिर वीजा के नियमों का उल्लंघन कर धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने का आरोप है।

केंद्र सरकार आयोजन में शामिल होने वाले 2,200 विदेशियों के भारत में प्रवेश पर भी रोक लगा चुकी है।

बलि का बकरा

गौरतलब है कि पिछले महीने तबलीगी जमात के विदेशी सदस्यों के खिलाफ दर्ज किए गए मुकदमों को रद्द करते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा था कि तबलीगी जमात को बिल का बकरा बनाया जा रहा है।

कोर्ट ने कहा था, “देश में कोरोना वायरस के मौजूदा आंकड़े दर्शाते हैं कि जमातियों के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए थी। विदेशियों के खिलाफ इस कार्रवाई पर अफसोस जताने के लिए कुछ सकारात्मक कदम उठाने की जरूरत है।”

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...