सचेत

आपके घर में रखे झाड़ू के बारे में AIIMS के डॉक्टर ने ये ज़रूरी बात बताई है

तर्कसंगत

Image Credits: India TV

September 22, 2020

SHARES

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं. कोरोना वायरस को लेकर दुनिया भर शोध जारी हैं और आए दिन इससे जुड़े कोई ना कोई तथ्‍य सामने आते हैं. अब हाल ही में एम्‍स के एक डॉक्‍टर ने दावा किया है कि सार्वजनिक स्‍थानों पर कोरोना वायरस झाड़ू के जरिए भी फैल सकता है. उनके मुताबिक ऐसे में सार्वजनिक जगहों पर झाड़ू न लगाकर वैक्‍यूम क्‍लीनर का इस्‍तेमाल करना चाहिए. झाड़ू से कोरोना वायरस फैल सकने का दावा एम्‍स के सर्जरी विभाग के अध्‍यक्ष डॉक्‍टर अनुराग श्रीवास्‍तव ने किया है. उनके मुताबिक झाड़ू का इस्तेमाल और खुले में कूड़े को रखना कोरोना संक्रमण को बढ़ाने में काफी मददगार होता है.  डॉ. अनुराग श्रीवास्तव का कहना है कि जिस तेजी से देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं. ऐसे में हर छोटी से छोटी लापरवाही भी पूरे देश के लिए भारी पड़ सकती है. 

न्यूज़ 18 के मुताबिक अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना वायरस किसी भी तरह की सतह में तीन से पांच दिन तक रह सकता है. संक्रमित मरीज अगर कहीं छींकता या खांसता है तो उसके शरीर से निकलने वाले वायरस के कण आसपास की सतह पर गिर जाते हैं. इसके अलावा एम्स के डॉक्टरों ने देश के नेताओं से भी अपील की है कि महामारी के इस वक्त में वे लोग भी वैक्यूम क्लीनर के साथ ही देश में किसी भी तरह के सफाई अभियान में भाग लें. 

झाड़ू लगाते वक्त धूल- मिट्टी के साथ विषाणु हवा में फैल सकते हैं, जिससे सांस के जरिए अन्य लोगों के शरीर में प्रवेश कर सकता है. उन्होंने यह भी कहा है कि प्रधानमंत्री स्किल इंडिया को बढ़ावा देने पर जोर देते हैं. ऐसी हालत में देश में बने वैक्यूम क्लीनर को बढ़ावा देना चाहिए. ताकि ये सस्ते बनें और हर आदमी की पहुंच में हो. डॉ. श्रीवास्तव ने अपील की है कि लोग झाड़ू की जगह वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करें. इस समय देश में बारिश का मौसम है, ऐसे में हवा में नमी भी है. अगर लोग खुले में झाड़ू लगाएंगे तो वायरस के फैलने का ख़तरा रहेगा. साथ ही उन्होंने इस मामले को देखते हुए लोगों से अपील की है कि 2 अक्‍टूबर को स्वच्छता अभियान में झाड़ू की जगह वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल किया जाए.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...