ख़बरें

केंद्र और राज्य सरकार से सुप्रीम कोर्ट ने 1.2 सेक्स वर्कर्स को ये सुविधाएं देने को कहा है

तर्कसंगत

Image Credits: Prabhatvarta

September 24, 2020

SHARES

सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान यौनकर्मियों (Sex Workers) की परेशानियों का संज्ञान लिया है. कोर्ट ने केन्द्र और सभी राज्य सरकारों को निर्देश दिया कि वे उन्हें पहचान का सबूत पेश करने पर जोर दिये बगैर ही मासिक सूखा राशन देने और नकदी दे. न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने कहा कि एक गैर सरकारी संगठन द्वारा यौनकर्मियों की समस्याओं को लेकर दायर जनहित याचिका में उठाये गये मुद्दों पर तत्काल ध्यान देने की जरूरत है.

लाइव लॉ के मुताबिक पीठ ने कहा, ‘‘अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल आर एस सूरी और राज्य सरकारों की ओर से पेश अधिवक्ताओं को निर्देश दिया जाता है कि वे यौनकर्मियों को पहचान का सबूत दिये बगैर ही उनमें सूखे राशन के वितरण और नकदी हस्तांतरित करने के तरीकों के बारे में आवश्यक निर्देश प्राप्त करें.’’ गैर सरकारी संगठन की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता आनंद ग्रोवर ने कहा कि आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और तेलंगाना में 1.2 लाख यौनकर्मियों के बीच किये गये सर्वे से पता चला कि महामारी की वजह से इनमें से 96 फीसदी अपनी आमदनी का जरिया खो चुकी हैं.

इस मामले में नियुक्त न्याय मित्र वरिष्ठ अधिवक्ता जयंत भूषण ने कहा कि यौनकर्मियों को पहचान का सबूत पेश करने पर जोर दिये बगैर ही उन्हें राशन देकर इस समस्या का समाधान किया जा सकता है. शीर्ष अदालत गैर सरकारी संगठन दरबार महिला समन्वय समिति की याचिका पर सुनवाई कर रही थी. इस याचिका में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी की वजह से यौनकर्मियों की स्थिति बहुत ही खराब हो गयी है. याचिका में देश में नौ लाख से भी ज्यादा यौनकर्मियों के लिये राहत के उपाय करने का अनुरोध किया गया है.

याचिका में कहा गया है कि यौनकर्मियों को भी संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत गरिमा के साथ जीने का अधिकार है और उनकी समस्याओं पर भी ध्यान देने की जरूरत है. याचिका में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी की वजह से यौनकर्मी सामाजिक लांछन के कारण अलग-थलग हैं और ऐसी स्थिति में उन्हें सहयोग की आवश्यकता है.

लॉकडाउन के बीच ट्रांसजेंडर वर्ग  ने अपनी मुश्किलें बताते हुए सरकार से भत्ते की मांग की थी, जिसके बाद सरकार ने मई महीने में उन्हें भत्ता देने की घोषणा की थी. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद्र गहलोत ने उस वक्त घोषणा की थी कि मंत्रालय ने प्रत्येक ट्रांसजेंडर को, जिसने मंत्रालय से सहायता मांगी है, 1500 रु.का निर्वाह भत्ता दिया है. देशभर में लगभग 4922 ट्रांसजेंडर व्यक्तियों को लगभग 73 लाख रुपए की राशि प्रत्यक्ष लाभार्थी अंतरण डीबीटी के माध्यम से जारी की गई है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...