सचेत

वैज्ञानिकों का दावा है कि ये मास्क कोरोना वायरस को न सिर्फ रोकेगा बल्कि मार भी सकता है

तर्कसंगत

Image Credits: The Federal

September 28, 2020

SHARES

भारतीय वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि रोगाणुनाशक कपड़े के साथ एक नए फेस मास्क की खोज की गई है, जो कोरोनोवायरस को तीन मिनट के भीतर मार सकता है, एक मीडिया रिपोर्ट में शुक्रवार को यह बात कही गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह एक ऐसा विकास है, जो महामारी के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में दूरगामी महत्व रख सकता है।

डिजिटल समाचार साइट फेडरल ने बताया, “इंस्टीट्यूट फॉर स्टेम सेल साइंस एंड रीजेनरेटिव मेडिसिन, इनस्टेम, बेंगलुरु के शोधकर्ताओं की एक टीम ने जी-फैब नामक एक कीटाणुनाशक कपड़े को विकसित किया है।” बताया गया है कि यह कपड़ा वायरस को और इसके साथ संपर्क करने वाले बैक्टीरिया को निष्क्रिय करने के लिए प्रभावी है।

हाथों की लगातार धुलाई के साथ-साथ, चेहरे के मास्क को कोरोनावायरस से बचने के लिए सबसे प्रभावी साधन माना जाता है। इस महामारी ने 32.5 मिलियन संक्रमित लोगों में से लगभग एक लाख लोगों को मार डाला है। अकेले भारत की बात करें तो यहां 5.8 मिलियन कोरोना पॉजिटिव लोगों में से 92,500 से अधिक लोग महामारी के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं।

तमिलनाडु की एक कंपनी ने G99+ ब्रांड नाम के तहत फेस मास्क का निर्माण शुरू किया है और प्रत्येक की कीमत 249 रुपये है। रिपोर्ट में कहा गया है कि धोए जाने वाले मास्क एक वैकल्पिक फिल्टर के साथ आते हैं, जिसकी कीमत 50 रुपये है।

रिपोर्ट में परियोजना के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. प्रवीण वेमुला के हवाले से कहा गया है, “हमने एक ऐसे अणु को विकसित किया है, जो संपर्क करने पर वायरस और बैक्टीरिया को निष्क्रिय कर सकते हैं। यह अणु सूती कपड़े के तंतुओं से जुड़े होते हैं, जो कपड़े को रोगाणुरोधी बनाता है। रिपोर्ट में बताया गया है कि डॉ. वेमुला एक इनोवेटर और एंटरप्रेन्योर हैं, जो भारत, अमेरिका और फ्रांस में कई रिसर्च स्टडीज को कमर्शियल प्रोडक्ट्स में ट्रांसलेट करने में सहायक हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि दोबारा उपयोग में लिए जाने वाले इस मास्क में तीन परतें शामिल हैं: बाहरी दो परतें जो कीटाणु नाशक होती हैं और कपास से बनी सबसे भीतरी परत। इस मास्क में एड-ऑन फिल्टर के लिए तीन परतों के बीच एक स्लिट शामिल है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस मास्क को पहनने वाले के पास मॉल या भीड़-भाड़ वाले इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षा के लिए इंसर्ट का उपयोग करने का विकल्प भी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस मास्क ने “सभी आवश्यक नियामक और परीक्षण प्रक्रियाओं को पास कर लिया है”।

रिपोर्ट में कहा गया है, “टीम ने बैक्टीरिया (ग्राम-पॉजिटिव और ग्राम-नेगेटिव) और वायरस जैसे कि लेंटवायरस, सेंडी वायरस, कोरोनावायरस सार्स-सीओवी -2 और मानव इन्फ्लूएंजा वायरस (एच 1 एन 1) के व्यापक स्पेक्ट्रम को मारने में कीटाणुनाशक कपड़े की प्रभावकारिता का प्रदर्शन किया है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...