ख़बरें

राजस्थान: कांग्रेस और बीजेपी महिला मोर्चा की नेता ही करवा रही थी नाबालिगों का यौन शोषण, इस पर क्या कहियेगा?

तर्कसंगत

Image Credits: Vatican News

October 4, 2020

SHARES

देशभर से आए दिन लड़कियों से जिस्मफरोशी से जुड़ी खबरें सामने आती रहती हैं। लेकिन राजस्थान से एक बेहद चौंका देने वाला मामला सामने आया है। जहां  कांग्रेस और बीजेपी की महिला नेता मिलकर सैक्स रैकेट चला रहीं थीं। इस मामले में अभी तक पांच लोगों की गिरफ्तार हो चुकी है। जिसमें बीजेपी की पूर्व महिला जिला अध्यक्ष सुनीता वर्मा का नाम भी शामिल है। वहीं कांग्रेस सेवादल के महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष पूजा उर्फ पूनम चौधरी फरार है। सीधे तौर पर कनेक्शन सामने आने पर दोनों ही पार्टियों में इसमामले को लेकर उथल-पुथल मच गई है।

न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक पुलिस उपाधीक्षक (DSP) ओपी सोलंकी ने बताया कि गत 22 सितंबर को एक नाबालिग पीड़िता के परिजनों ने महिला थाने में मामला दर्ज कराया था कि भाजपा महिला मोर्चा की पूर्व जिलाध्यक्ष सुनीता वर्मा उर्फ संपति बाई, उनके सहयोगी हीरालाल और कांग्रेस सेवादल महिला प्रकोष्ठ की पूर्व जिलाध्यक्ष पूजा उर्फ पूनम चौधरी नाबालिगों का सैक्स रैकेट चला रहे हैं।आरोपियों ने बदनाम करने धमकियां देकर उनकी बेटी का कई जगहों पर जबरन यौन शोषण कराया है।

न्यूज 18 के अनुसार DSP सोलंकी ने बताया कि मामले की जांच में शिकायत के सही पाए जाने पर पुलिस ने गत दिनों मुख्य आरोपी सुनीता वर्मा उर्फ संपति बाई, उसके साथी हीरालाल, जिला उद्योग केंद्र के लिपिक संदीप शर्मा, कलक्ट्रेट के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी श्योराम मीणा और खंडा कॉलोनी इलेक्टीशियन राजूलाल रेगर को गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि पूजा उर्फ पूनम चौधरी अभी फरार है और उसकी तलाश जारी है। उसे जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

क्या था मामला ?

DSP सोलंकी ने बताया कि नाबालिग पीड़िता को कांग्रेस नेता पूनम चौधरी ने ही सुनीता वर्मा से मिलवाया था। इसके बाद दोनों ने उसका यौन शोषण कराना शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपी राजूलाल ने सुनीता के घर बिजली फिटिंग का कार्य किया था। ऐसे में सुनीता पर राजूलाल की 2,000 रुपये मजदूरी बकाया थी।

वह पैसे मांगने गया तो सुनीता ने नाबालिग से दुष्कर्म करवा कर उससे अपना हिसाब चुकता कर लिया।

इसी तरह आरोपी श्योराम मीणा की सुनीता से कलक्ट्रेट में ज्ञापन देने जाने के दौरान पहचान हुई थी। लॉकडाउन में कई मर्तबा श्योराम ने सुनीता को सेनेटाइजर मुफ्त में उपलब्ध करवाए थे।

इस पर सुनीता ने श्योराम को नाबालिग की अस्मत से खेलने की छूट दे दी और उसने नाबालिग के साथ रेप किया।

कुछ इसी तरह का मामला तीसरे आरोपी आरोपी लिपिक संदीप के साथ होना बताया जा रहा है। पुलिस गहराई से मामले की जांच कर रही है।

DSP ने बताया मामले में गिरफ्तार पांच आरोपियों में से सुनीता वर्मा तथा हीरालाल को न्यायालय ने 3 अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर सौंपा गया है। इसके अलावा श्योराम मीना, लिपिक संदीप और राजूलाल को जेल भेज दिया गया है। दोनों से पूछताछ जारी है।

मामले का खुलासा होने के बाद भाजपा ने भी कार्रवाई करते हुए सुनीता वर्मा को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। भाजपा पदाधिकारियों का कहना था कि इस तरह के अपराधों में लिप्त लोगों के लिए पार्टी में किसी तरह की जगह नहीं है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...