सचेत

उत्तराखंड चारधाम यात्रा अन्य राज्य के भक्तों को कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लेकर आने की जरूरत नहीं, रोज़ाना 3000 लोग कर सकेंगे दर्शन

तर्कसंगत

October 5, 2020

SHARES

उत्तराखंड में मौजूद चारधाम यात्रा पर जा रहे तीर्थ यात्रियों के लिए एक बेहद जरूरी खबर है। आपको बता दें कि उत्तराखंड में लॉकडाउन में छूट मिलने के साथ ही चार धाम तीर्थ यात्रियों की आमद लगातार बढ़ रही है। ऐसे में देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड ने एक बड़ा फैसला लिया है। एक न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक प्रतिदिन दर्शन के लिए निर्धारित संख्या को बढ़ाया है। अब बदरीनाथ और केदारनाथ धाम में एक दिन में 3-3 हजार श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। इसके अलावा गंगोत्री धाम में 900 श्रद्धालु दर्शन करेंगे और यमुनोत्री में 700 तीर्थयात्री दर्शन कर सकते हैं। खबर के मुताबिक देवस्थानम् बोर्ड ने चारधामों में यात्रियों की संख्या बढ़ाने के आदेश जारी कर दिए हैं। सोमवार से ये व्यवस्था लागू हो जाएगी। खबर है कि इससे पहले देवस्थानम् बोर्ड ने रुद्रप्रयाग, चमोली और उत्तरकाशी के जिलाधिकारियों से रिपोर्ट मांग थी। अब रिपोर्ट के आधार पर देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड ने बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में प्रतिदिन दर्शन के लिए तीर्थ यात्रियों की संख्या बढ़ा दी है। बदरीनाथ धाम में अब तक एक दिन में 1200 श्रद्धालु दर्शन कर सकते थे लेकिन अब 3000 श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे।

 

केदारनाथ धाम में अब तक एक दिन में 800 श्रद्धालु दर्शन कर सकते थे लेकिन अब 3000 श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। गंगोत्री धाम में अब तक एक दिन में 600 श्रद्धालु दर्शन कर सकते थे लेकिन अब 900 श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। यमुनोत्री धाम में अब तक एक दिन में 450 श्रद्धालु दर्शन कर सकते थे लेकिन अब 700 श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे।

उत्तराखंड के चारधाम बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यनुनोत्री में देशभर से भक्त पहुंचने लगे हैं। अब राज्य सरकार ने अन्य राज्यों से आने वाले यात्रियों के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लेकर आने का नियम खत्म कर दिया है। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम् बोर्ड की वेब साइट पर यात्री रजिस्ट्रेशन कराकर ई-पास प्राप्त कर सकते हैं। इस ई-पास से चारधाम में दर्शन किए जा सकते हैं।

चारधाम यात्रा के लिए आने वाले बाहरी लोगों के लिए गेस्ट हाउस और होटल्स भी खुल चुके हैं। मंदिर के आसपास की सभी दुकानें, धर्मशालाएं और अन्य धर्म स्थल भी खुल रहे हैं। यहां आने वाले भक्तों को कोरोना महामारी से जुड़े नियमों का पालन करना जरूरी है। सभी को मास्क लगाना होगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

नेशनल लॉकडाउन के बाद 1 जुलाई से इन चारों मंदिरों में दर्शन व्यवस्था शुरू हो चुकी है। अब तक 98 हजार से ज्यादा यात्रियों में बोर्ड की वेबसाइट पर दर्शन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है। 50 हजार से ज्यादा भक्तों ने यहां दर्शन किए हैं।

यहां आने भक्तों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जा रहा है। यात्रियों की थर्मल स्केनिंग हो रही है। अगर किसी यात्री में कोरोना से संबंधित लक्षण दिखाई देते हैं तो उसे दर्शन करने की अनुमति नहीं मिल सकेगी।

हेलीकॉप्टर से आने भक्तों को वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराने की जरूरत नहीं है। इन लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण की जिम्मेदारी हेलीकॉप्टर कंपनी की ही रहेगी।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...