ख़बरें

त्यौहार के मौसम में बोनस नहीं मिला तो रेलवे के कर्मचारी 22 अक्तूबर को करेंगे हड़ताल

तर्कसंगत

Image Credits: Zee News

October 20, 2020

SHARES

त्योहारों पर समय से बोनस न मिलने से रेलवे कर्मचारियों ने नाराजगी जताई है. रेलवे कर्मचारियों के मुताबिक विभाग हर साल बोनस दुर्गा पूजा के पहले ही बांट देता था, लेकिन इस साल अभी तक बोनस नहीं मिला है, जिसकी वजह से कर्मचारियों में गुस्सा है. ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन (AIRF) के साथ एनसीआरएमयू (NCRMU) की वर्चुअल मीटिंग के बाद तय हुआ कि अगर 21 अक्टूबर तक बोनस का ऐलान नहीं किया गया तो रेलवे कर्मचारी 22 अक्टूबर को दो घंटे तक रेल का चक्काजाम करेंगे.  रेलवे कर्मचारी संघ ने साफ कहा है कि आम तौर पर दुर्गा पूजा के शुरू होने से पहले दिया जाने वाला उनका उत्पादकता से जुड़ा बोनस 20 अक्टूबर से पहले नहीं जारी किया गया तो सीधी कार्रवाई की जाएगी.

रेलवे की 1974 की ऐतिहासिक हड़ताल के बाद रेल कर्मचारियों को बोनस मिलना शुरू हुआ. इसके लिए रेल कर्मचारियों ने अपनी कुर्बानियां भी दीं। लंबे संघर्ष के बाद रेल कर्मचारियों को बोनस का अधिकार मिला है, लेकिन इस अधिकार को वापस लिया जा रहा है. हम किसी भी कीमत पर अपना अधिकार नहीं जाने देंगे. यह बात पश्चिम मध्य रेलवे एम्पलाइज यूनियन ने प्रदर्शन के दौरान मंडल अध्यक्ष बीएन शुक्ला ने कही। गुरुवार को कोचिंग डिपो के समक्ष यूनियन के पदाधिकारी और सदस्यों ने बोनस न मिलने को लेकर विरोध प्रदर्शन किया.

स्वराज्य की खबर में AIRF के महासचिव शिव गोपाल मिश्रा ने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान रेलवेकर्मियों ने हफ्ते में सातों दिन 24 घंटे काम किया, लेकिन सरकार रेल कर्मियों की इस मांग की अनदेखी कर रही है. उन्होंने कहा, “बैठक में यह फैसला लिया गया कि अगर रेल कर्मियों के लिए उत्पादकता से जुड़े बोनस के भुगतान के आदेश रेल मंत्रालय द्वारा 20 अक्टूबर तक जारी नहीं किये जाते हैं तो 22 अक्टूबर 2020 को सीधी कार्रवाई की जाएगी.”

इसके अलावा शिव गोपाल मिश्रा ने दावा किया कि बोनस से संबंधित फाइल रेलवे बोर्ड ने वित्त मंत्रालय को भेजी है, जिस पर अभी तक मंजूरी नहीं मिली है. उन्होंने कहा कि भुगतान दुर्गा पूजा से पहले किया जाता था, लेकिन इस बार अब तक यह नहीं किया गया जिससे रेलवे कर्मचारियों में गंभीर आक्रोश है. बैठक में अधिकारियों ने भी सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों को लेकर नाराजगी जाहिर की और सीधी कार्रवाई की मांग की.

वहीं मेंस यूनियन के जोनल महामंत्री आरडी यादव ने बताया कि 20 अक्टूबर को कर्मचारी बोनस दिवस मनाएंगे. 21 अक्टूबर तक रेलवे प्रशासन के जवाब का इंतजार किया जाएगा. अगर बोनस का ऐलान नहीं हुआ तो 22 को प्रदर्शन होगा. उन्होंने बताया कि इस आंदोलन को रेल बचाओ, देश बचाओ आंदोलन के रूप में भी चलाया जाएगा.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...