ख़बरें

केरल में इस कार्यक्रम के अंतर्गत 18 ट्रांसजेंडर उच्च शिक्षा के लिए योग्य बनाया गया

तर्कसंगत

Image Credits: Dailyhunt

October 23, 2020

SHARES

केरल सरकार ने राज्य के ट्रांसजेंडर समूह के साक्षरता पर ध्यान देते हुए, राज्य साक्षरता मिशन के अंतर्गत उन्हें साक्षर होकर अपनी ज़िंदगी सुधारने का मौका दिया.
इसके फलस्वरुप आज तकरीबन 18 ऐसे ट्रांसजेंडर छात्र हैं जिन्होनें 12 क्लास के समकक्ष या कहलें बराबर की परीक्षा पास कर ली हैं
ट्रांसजेंडर लोग समन्वय (Samanwaya) परियोजना का हिस्सा थे, जो एक मासिक छात्रवृत्ति (monthly scholarship) के साथ कक्षा IV से XII तक के लिए निशुल्क शिक्षा कार्यक्रम प्रदान करता है।

जबकि दसवीं कक्षा के बराबर के छात्रों के लिए 1,000 की मासिक छात्रवृत्ति निर्धारित की गयी है. 12वीं के छात्रों को 1,250 हर महीने दिए जाते हैं। एक अच्छी बात ये भी है कि चूंकि कक्षा बारहवीं के बराबर के सिलेबस को सामान्य स्कूल जैसी सिलेबस को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है तो इसलिए 12वी के सभी सफल उम्मीदवार चाहे तो आगे की शिक्षा के लिए भी नामांकन कर सकते हैं।

परीक्षा के लिए कुल 22 उम्मीदवार उपस्थित हुए थे, जिनमें से 18 सफल हुए। पठानमथिट्टा में सबसे अधिक आठ सफल उम्मीदवार थे, इसके बाद तिरुवनंतपुरम (पांच), कोल्लम (दो) और त्रिशूर, कोझिकोड और कन्नूर के एक-एक उम्मीदवार थे। पठानमथिट्टा जिले में, राज्य साक्षरता मिशन ने उन लोगों के लिए मुफ्त भोजन और आवास की सुविधा भी प्रदान की थी जिन्होंने इस कार्यक्रम के लिए नामांकन किया था।

2018 में समन्वय परियोजना शुरू की गई थी. तब से लेकर आज तक 39 ट्रांसजेंडर उच्च अध्ययन के लिए योगय हो चूके है, जबकि 30 ट्रांसजेंडर लोग वर्तमान में दसवीं कक्षा के समकक्ष कार्यक्रम (equivalency programme) के लिए नामांकित हैं और अपनी पढाई जारी रखे हुए हैं. बारहवीं कक्षा के समकक्षता कार्यक्रम के लिए कुल 62 नामांकन दर्ज़ थे। कक्षा VII और कक्षा IV के समतुल्य कार्यक्रमों के लिए नामांकन की संख्या क्रमशः एक और सात है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...