गुरमीत राम रहीम को मिली गुपचुप तरीके से पैरोल, 12 दिन बाद हुआ खुलासा ram rahim parole

ख़बरें

गुरमीत राम रहीम को मिली गुपचुप तरीके से पैरोल, 12 दिन बाद हुआ खुलासा

तर्कसंगत

Image Credits: Times Of India

November 9, 2020

SHARES

बलात्कार और हत्या मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Ram Rahim) को एक दिन का पैरोल (Parole) दिया गया.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व में भाजपा-जेजेपी की गठबंधन सरकार ने 24 अक्टूबर को बेहद गुप्त तरीके से राम रहीम को पैरोल दी थी.

पूरे 12 दिनों बाद मामले का खुलासा तो गुरुग्राम के लोगों के साथ मीडियाकर्मी भी हैरान हैं. बता दें कि पूर्व डेरा प्रमुख बाबा राम रहीम साध्वी से दुष्कर्म में रोहतक जिले की सुनारिया जेल में कड़ी सजा काट रहा है.

बलात्कार और हत्या मामले में हरियाणा की रोहतक जेल में बंद गुरमीत राम रहीम को उनकी बीमार मां से मिलने के लिए एक दिन के पैरोल पर जमानत दी गई थी.बताया गया है कि उनकी मां गुंड़गांव के अस्पताल में भर्ती हैं.

सूत्रों के अनुसार, गुरमीत राम रहीम को भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच 24 अक्टूबर को सुनारिया जेल से गुड़गांव अस्पताल ले जाया गया, वह शाम तक वहां अपनी मां के साथ रहे.

इस दौरान उनके साथ हरियाणा पुलिस की तीन कंपनी थी. पुलिस की एक कंपनी में 80 से 100 जवान होते हैं.

डेरा प्रमुख को पुलिस के वाहन से जेल से ले जाया गया और बाद में इसी से वापस लाया गया. इस दौरान वाहन में पर्दे लगे थे.

गुड़गांव में पुलिस के वाहनों को अस्पताल के बेसमेंट में पार्क किया गया और अस्पताल के जिस फ्लोर पर उनकी मां भर्ती थी, उसे पूरी तरह से खाली करा दिया गया था.

रोहतक के एसपी राहुल शर्मा ने बताया, ‘हमें जेल सुपरिंटेंडेंट से राम रहीम के गुरुग्राम दौरे के लिए सुरक्षा व्यवस्था का निवेदन मिला था. हमने 24 अक्टूबर को सुबह से लेकर शाम ढलने तक सुरक्षा उपलब्ध कराई थी. सब कुछ शांति से हुआ.’

बताया जा रहा है कि दुष्कर्म मामले में सजा काट रहे डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को यह पैरोल गोपनीयता बरतते हुए दी गई थी. इसके तहत उसे प्रशासन ने 24 घंटे के लिए सीक्रेट पैरोल पर रोहतक की सुनारिया जेल से बाहर निकाला था. राम रहीम की पैरोल के बारे में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर समेत सिर्फ आला आधिकारियों को ही जानकारी थी. वहीं, हरियाणा के जेल मंत्री रणजीत सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि इसकी जानकारी उन्हें थी.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...