हरियाणा में सरकार ने लगभग 66% बढ़ाई MBBS की फीस, हर साल भरना होगा लाखों का बॉन्ड haryana mbbs fees

ख़बरें

हरियाणा में सरकार ने लगभग 66% बढ़ाई MBBS की फीस, हर साल भरना होगा लाखों का बॉन्ड

तर्कसंगत

Image Credits: India.com

November 10, 2020

SHARES

हरियाणा (Haryana) में डॉक्टरी की पढ़ाई अब महंगी हो गई है.राज्य सरकार ने सरकारी मेडिकल कॉलेजों से एमबीबीएस (MBBS) और पीजी कोर्स के लिए तय फीस (Fees) में इजाफा किया है.

दरअसल, खट्टर सरकार ने अधिसूचना जारी की है, जिसके तहत अब MBBS के छात्रों को चार साल के लिए फीस सहित 40 लाख रुपये का भुगतान करना होगा।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की खबर के मुताबिक  इस साल से हरियाणा के सरकारी कॉलेजों में MBBS प्रथम वर्ष की फीस 80,000 रुपये हो गई है, लेकिन छात्रों को बॉन्ड समेत 10 लाख रुपये देने होंगे। उम्मीदवार को बॉन्ड राशि के लिए कर्ज की सुविधा का विकल्प देने के साथ ही राज्य सरकार एमबीबीएस पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान में नौकरी मिलने की स्थिति में उम्मीदवारों के कर्ज की किस्त चुकाएगी। सरकार बढ़ाई गई फीस को मामूली फीस बता रही है।

सरकार की नयी नीति क्या है?

हरियाणा सरकार नई नीति लाई है, ताकि MBBS छात्र पढ़ाई के बाद नौकरी करने के लिए राज्य सरकार की मेडिकल और चिकित्सा सेवाओं को चुनें। इनके तहत हर साल एडमिशन के समय छात्रों को फीस समेत 10 लाख रुपये का बॉन्ड भरना होगा।

छात्र चाहे तो अपने पास से 10 लाख रुपये दे सकते हैं या सरकार की मदद से लोन भी ले सकते हैं। छात्रों को चार साल की पढ़ाई के लिए 40 लाख रुपये देने होंगे।

सरकार के लिए नौकरी करना होगा

इसके बाद अगर कोई छात्र MBBS की पढ़ाई और अपनी इंटर्नशिप पूरी कर हरियाणा सरकार के कॉलेजों या चिकित्सा सेवाओं में सेवा देता है तो सरकार उसके इस पैसे को ब्याज समेत वापस चुका देगी।

इसके लिए छात्र को सात साल तक सरकार को अपनी सेवाएं देनी होंगी। यानी अगर छात्र सात साल तक सरकारी नौकरी करेगा तो उसके बॉन्ड की राशि किस्तों में वापस चुका दी जाएगी और उससे कोर्स की 3.71 लाख रुपये फीस ही ली जाएगी।

वहीं दूसरी तरफ, अगर कोई छात्र हरियाणा सरकार की नौकरी नहीं करता है या सात साल से पहले हरियाणा सरकार की नौकरी छोड़कर दूसरी जगह चला जाता है तो उसकी बकाया किस्तों का भुगतान नहीं किया जाएगा।

हालांकि, सरकार ने इस नीति में छात्रों को सरकारी नौकरी देने की गारंटी नहीं ली है।

इसके अलावा अगर किसी छात्र को नौकरी नहीं मिलती है तो लोन का पैसा उन्हें खुद जमा कराना होगा। इसके लिए सात साल का समय दिया जाएगा।

इस साल की फीस

हरियाणा सरकार ने इस साल MBBS कोर्स के लिए फीस का ऐलान कर दिया है।

पहले साल के लिए फीस 80,000 रुपये तय की गई है, जिसमें हर साल 10 फीसदी का बढ़ोतरी होती रहेगी। दूसरे साल यह 88,000 रुपये, तीसरे साल 96,800 रुपये और चौथे साल 1,06,480 रुपये हो जाएगी।

दूसरे साल MBBS छात्र को 88,000 रुपये की फीस के साथ 9,12,000 लाख रुपये का बॉन्ड, तीसरे साल 9,03,200 रुपये और चौथे साल 8,93,520 रुपये का बॉन्ड भरना होगा।

हर साल फीस के साथ बॉन्ड की रकम मिलकर 10-10 लाख रुपये होती रहेगी।

चौथे साल तक छात्र फीस के 3,71,280 रुपये और बॉन्ड के 36,28,720 रुपये भर चुका होगा।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...