Cattle , Lumpy skin Disease, Lumpy skin Disease of cow,Lumpy disease helpline number, Lumpy disease in cows, Lumpy skin virus, lumpy virus News, lumpy skin disease in haryana, lumpy virus in haryana, haryana news, lumpy virus in animals, lumpy virus symptoms, lumpy virus in cow, lumpy virus treatment, lumpy virus in india, lumpy virus vaccine, lumpy virus causes

ख़बरें

नही थम रहा ‘लंपी स्किन वायरस’ का संक्रमण, सरकार ने शुरू किया टीकाकरण अभियान, जानें पूरी डिटेल्स

Nishant Kumar

September 4, 2022

SHARES

नई दिल्ली: कोरोना के बाद से कई तरह के वायरस सामने आ चुके हैं. पहले मंकीपाॉक्स, टोमैटो फीवर और अब लंपी स्किन वायरस ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी है. लंपी स्किन वायरस (Lumpy skin Disease) इस तरह हमारे देश में फैल रहा है की जिससे हमारी डेरी इंडस्ट्री पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है ।

हालांकि इस इस बीमारी पर हमारा ज्यादा ध्यान नही गया क्योंकि ये सिर्फ पशुओं संबंधित है और यह पशुओं से इंसानों में नही फैलता. इसका असर सिर्फ मवेशियों तक ही है. लेकिन आपको बता दें कि लंपी स्किन वायरस अब तक आठ से ज्यादा राज्यों में फैल चुका है और अब तक इसने करीब 7500 से अधिक मवेशियों को अपनी चपेट में ले लिया है.

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान( Minister Sanjeev baliyan) के अनुसार यह वायरस 12 से ज्यादा राज्यों में फ़ैल चुका है, जिसमे राजस्थान, हरियाणा, गुजरात वा उत्तर प्रदेश के मवेशियों मुख्य रूप से प्रभावित हैं.

क्या है लंपी स्किन डिजीज
लंपी स्किन वायरस से किसी मवेशी के ग्रसित होने पर उसके पूरे शरीर पर गांठें नजर आने लगती है. इस वायरस का नाम कैपरीपॉक्स वायरस भी (Capripox virus ) है. ये कहना भी गलत होगा की ये सिर्फ भारत की समस्या है, लंपी स्किन (Lump skin Disease) वायरस की उत्पत्ति अफ्रीका में हुई और अब यह दुनिया भर के कई देशों में फैल चुका है. लंपी स्किन वायरस भी कोरोना की ही तरह एक भयानक रूप लेता जा रहा है. इस वायरस को मवेशियों का कोरोना वायरस भी कहा जाने लगा है.

बस राहत की ये बात है की ये capripox virus इंसानों को इफेक्ट नहीं करना यह वायरस गाय भैंसो के साथ – साथ बकरीओ व भेड़ों मे भी फैलता है.

LSD के लक्षण
जब मवेशी इस वायरस के संक्रमण में आते है तो मुंह में छाले होना, साथ में बुखार का आना और जानवरों के वजन में तेजी से गिरावट आना इसके प्रमुख लक्षण हैं. इससे ग्रसित होने पर मवेशियों का दूध भी कम हो जाता है. यह संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसीलिए हमारे वैज्ञानिको का एक बड़ा चिंता का कारण बनी है.

Govt ने टीकाकरण अभियान की शुरुआत भी की है
इस खतरनाक वायरस से मवेशियों को बचाने के लिए अभियान शुरू कर दिया गया है. सरकार ने लंपी स्किन वायरस से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान की शुरुआत की है. बता दें कि लंपी स्किन वायरस Goatpox or sheeppox की फैमिली का ही एक वायरस है और इसी वजह से मवेशियों को Goatpox की vaccin ही दी जा रही है. अभी तक सरकार द्वारा 48 लाख से अधिक वैक्सीन मवेशियों को दी जा चुकी है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...