ख़बरें

पीएम मोदी ने कर्तव्यपथ का उद्धघाटन किया, बोले गुलामी की पहचान से मिली मुक्ति

Nishant Kumar

September 8, 2022

SHARES

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बहुप्रतिक्षित कर्तव्य पथ का उद्घाटन किया. सेंट्रल विस्टा एवेन्यू 19 महीने में बनकर तैयार हुआ है. एक दिन पहले ही NDMC ने राजपथ का नाम बदलकर ‘कर्तव्य पथ’ करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी. शाम 7 बजे इंडिया गेट पर पहुंच कर पीएम मोदी ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस की प्रतिमा का अनावरण किया. नेताजी सुभाष चंद्र बोस की यह मूर्ति यह 28 फीट ऊंची है और इसका वजन 65 मीट्रिक टन है. नेताजी की यह प्रतिमा ग्रेनाइट पत्थर से बनाई गई है जिसे बनाने में 26 हजार घंटे लगे.

इस बीच DMRC ने जानकारी दी कि सेंट्रल विस्टा के उद्घाटन के बाद 9 सितंबर से इंडिया गेट/सेंट्रल विस्टा जाने वालों के लिए दिल्ली मेट्रो बस सेवा देगी. इसमें नेशनल स्टेडियम सी-हेक्सागन के भैरों रोड से गेट नंबर 1 तक 6 बसों का संचालन होगा। यह सेवा शाम 5 बजे से रात 9 बजे तक शुरू के एक सप्ताह के लिए उपलब्ध रहेगी.

बता दें कि दिल्ली के ऐतिहासिक राजपथ और सेंट्रल विस्टा लॉन का पुनर्विकास किया गया है। वहीं राजपथ का नाम अब बदल कर ‘कर्तव्य पथ’ कर दिया गया है. इंडिया गेट और कर्तव्य पथ लॉन जाने वाले लोगों को नई सुविधाओं में कई चीजें मिलने वाली हैं.

इसमें 6 नए पार्किंग स्थल, 400 से अधिक बेंच, सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए एम्फीथिएटर, महिलाओं के लिए 64 शौचालय, पुरुषों के लिए 32 और दिव्यांगों के लिए 10 शौचालय बनाए गए हैं. वहीं बाधा मुक्त क्रॉसिंग के लिए अंडरपास, 16 स्थायी वॉकवे ब्रिज और 16.5 किलोमीटर पैदल चलने वाले पैदल मार्ग बनाए गए हैं.

विजय चौक से इंडिया गेट तक 3 किलोमीटर लंबा राजपथ जिसका नाम बदलकर कर्तव्यपथ कर दिया गया है अब आधुनिक सुविधाओं के साथ 19 महीने बाद फिर से खुलने को तैयार है. इंडिया गेट से राष्ट्रपति भवन तक कर्तव्यपथ पर दोनों तरफ के के वो इलाके हैं जिनमें राष्ट्रपति भवन, नॉर्थ ब्लॉक, साउथ ब्लॉक, रेल भवन, संसद भवन, कृषि भवन, निर्माण भवन, उद्योग भवन, रक्षा भवन, राष्ट्रीय संग्रहालय, राष्ट्रीय अभिलेखागार, बीकानेर हाउस, और हैदराबाद हाउस समेत कई सरकारी इमारतें हैं. फिलहाल, कुछ हिस्से को ही अभी आम लोगों के दीदार के लिए खोला जा रहा है, बाक़ी हिस्सों की तामीर चल रही है.

नये सेंट्रल विस्टा एवेन्यू में त्रिकोणीय आकार का नया संसद भवन है, सभी मंत्रालयों के लिए केंद्रीय सचिवालय हैं, नए कार्यालय हैं, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के लिए आवास का निर्माण किया जा रहा है. भारत के स्वर्णिम इतिहास को प्रदर्शित करने हेतु राष्ट्रीय संग्रहालय को नॉर्थ और साउथ ब्लॉक में स्थानांतरित किया जाएगा, जबकि कई पुराने भवन तोड़ दिए गए हैं ताकि नयी ज़रूरतों को पूरा किया जा सके.

सेंट्रल विस्टा एवेन्यू में शॉपिंग के लिए लोगों की सुविधा का भी खास ख्याल रखा गया है जिसे यहां आने वाले लोग शॉपिंग कर सेकेंगे इसके लिए 5 वेंडिंग जोन होंगे. हर जोन में 40-40 वेंडर होंगे. वेंडर छोटी-छोटी बास्केट में सामान बेच सकेंगे. इस तरह से करीब 200 वेंडर्स होंगे. वहीं 8-8 दुकानों के दो ब्लॉक भी तैयार किए गए हैं. दिल्ली टूरिज्म के सहयोग से राज्यों को ये दुकानें दी गई हैं ताकि राजधानी में प्रदेशों की झलक भी बरकरार रहे. इतना ही नहीं वेंडिंग प्लाजा इस तरह से बनाए गए हैं कि पैदल चलने वालों को कोई परेशानी न हो. यहां पर पैदल चलने वालों के लिए खास इंतजाम किए गए हैं. पैदल चलने वाले लोगों के लिए चार अंडरपास बनाए गए हैं. दो जनपथ की तरफ और दो अंडरपास सी-हेक्सागन की ओर बनाए गए हैं. पैदल चलने वालों की सुविधा के लिए 16 पुल भी बनाए गए हैं. वाणिज्य भवन के पीछे बनी नहर और कृषि भवन की तरफ बनी नहर में बोटिंग की जा सकेगी.

सेंट्रल विस्टा में कई नाम पहले भी बदले जा चुके हैं
• सेंट्रल विस्टा एवेन्यू, राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक फैला हुआ है
• दिल्ली के सबसे अधिक देखे जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है
• इस एवेन्यू में वायसराय हाउस से लेकर ऑल इंडिया वॉर मेमोरियल तक 3 किमी लंबा ट्री-लाइन वाला खंड शामिल है
• स्वतंत्रता के बाद, सेंट्रल विस्टा एवेन्यू की सड़कों का भी नाम बदल दिया गया
• किंग्सवे राजपथ बन गया और क्वीन्सवे जनपथ बन गया
• वायसराय हाउस राष्ट्रपति भवन बन गया
• अखिल भारतीय युद्ध स्मारक इंडिया गेट बन गया
• सेंट्रल विस्टा की ये इमारतें भारत गणराज्य के प्रतीक स्मारकों के रूप में अलग स्थान रखता हैं

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...